Category Archives: DO YOU KNOW

जगन्नाथ रथ यात्रा : पुरी (उड़ीसा ) – श्रद्धालुओं के आकर्षण का केंद्र

DR. S M JHA

हिंदुओं की प्राचीन और पवित्र सात नागरियों में एक – पुरी, उड़ीसा राज्य के समुद्री तट बसा है। भगवान जगन्नाथ जी का मंदिर विष्णु के आठवें अवतार श्री कृष्ण को समर्पित है। भारत के पूरब में बंगाल की खाड़ी के पूर्वी छौर पर बसी पवित्र सुंदर नागरी – पुरी, उड़ीसा की राजधानी भूवनेश्वर से थोड़ी दूर पर है। आज का उड़ीसा प्राचीन काल में उत्कल प्रदेश के नाम से जाना जाता था। यहाँ पर देश की प्रमुख समृद्ध बंदरगाहें थी, जहां से जावा, सुमात्रा, इन्डोनेशिया, थायलैंड और अन्य कई देशों का इन्हीं बन्दरगाहों के रास्ते व्यापार हुआ करता था। पुरी नागरी को पुराणों में धरती का वैकुंठ कहा गया है। यह भगवान विष्णु जी के चार धामों में से एक है। इसे श्रीक्षेत्र, शक क्षेत्र, नीलांचल, नीलगिरी और श्री जगन्नाथ पुरी भी कहते हैं। ब्रह्म और स्कन्द पुराण के अनुसार यहाँ भगवान विष्णु पुरुषोत्तम नीलमधाव के रूप में अवतरित हुए और सबर जनजाति के परम पूज्य देवता बन गए। सबर जनजाति के देवता होने के कारण यहां भगवान जगन्नाथ जी का रूप कबीलाई देवताओं की तरह ही है। ज्येष्ठ पूर्णिमा से आषाढ़ पूर्णिमा तक सबर जनजाति के सभी वर्ग दैतपति श्री जगन्नाथ जी की सारी रीतियाँ करते हैं। आदिकाल से ये मन्यता चली आ रही है कि भगवान विष्णु जी जब चारों धामों पर बसें अपने धामों की यात्रा पर जाते हैं तो उत्तर में हिमालय की ऊंची चोटियों पर बने अपने धाम बद्रीनाथ में सबसे पहले पहुंचकर स्नान करते हैं फिर पच्छिम में गुजरात के द्वारिका में वस्त्र पहनते हैं। इसके बाद भारत के पूरबी भाग में बसे धाम – पुरी में भोजन कर भारत के दक्षिण भाग के धाम – रामेश्वरम में विश्राम करते हैं। द्वापर युग के बाद से  भगवान जगन्नाथ जी अपने बड़े भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा जी के साथ पुरी धाम में ही विराजते हैं। यहां हर वर्ष आषाढ़ शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को जगन्नाथ रथ यात्रा निकाली जाती है।

JAGANNATH PURI RATH YATRA 2021

ASIA PACIFIC REGION MESSENGERS OF PEACE CONFERENCE A DECADE Mop CELEBRATION(2011-2021) WAS HELD 24-27 JUNE 2021: OVERALL VIEW REPORTED BY DR SM JHA, A SCOUT CONTIGENT.

DR SM JHA – BSG CONTIGENT FROM INDIA

BREAKOUT THEME – USE OF MEDIA TO PROMOTE THE MESSAGE OF PEACE : At present, the Internet Technology has grown widely and the Social Media have become tremendous Platform to connect the People. We utilize its implication and uses besides of their different ethnic and religious groups and inter-ethnic dialogues. Recently we have witnessed the Vaccination for Covid 19, Safety & Precautions for Corona Virus and many such cases that have proved the power of Social media. Thus we can say that this was the beginning of a wave, an era in the use of Social Networks to bring people together to fight and protest against violence and established the peace in the civil society.

Social Media is an essential tool and easy medium to spread out the messages from the messengers of peace. Now a day reach a large number of people and has becomes a vital element in today’s life of mankind to promote the peace among the country man and provided the impacts not only national but International platform too. It makes positive difference among the citizen and mobilize them to established the peace. Facebook, Instagram, Twitter, LinkedIn, Koo, others Sites are various Social Networking Blogs, Sites have World Wide impacts and can focus the enormous effects on the human interaction to established the peace among the world wide Community and can save valuable lives of mankind in the world.

ASIA PASIFIC REGION MESSENGERS OF PEACE CONFERENCE A DECADE CELEBRATION (2011-2021) WAS HELD W.E.F.24-27 JUNE 2021 : PREVIEW

भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम के प्रथम शहीद वीर तिलका माँझी

प्रथम वीर शहीद तिलका मांझी (11 फरवरी 1750, सुल्तानगंज – 15 जुलाई 1785, भागलपुर)

DR. SM JHA

तिलका माँझी का जन्म 11 फरवरी, 1750 को बिहार के सुल्तानगंज में ‘तिलकपुर’ नामक गाँव में एक संथाल परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम ‘सुंदरा मुर्मू’ था। तिलका माँझी को ‘जाबरा पहाड़िया’ के नाम से भी जाना जाता था। बचपन से ही तिलका माँझी जंगली सभ्यता की छाया में धनुष-बाण चलाते और जंगली जानवरों का शिकार करते। कसरत-कुश्ती करना बड़े-बड़े वृक्षों पर चढ़ना-उतरना, बीहड़ जंगलों, नदियों, भयानक जानवरों से छेड़खानी, घाटियों में घूमना आदि उनका रोजमर्रा का काम था। जंगली जीवन ने उन्हें निडर व वीर बना दिया था।

भारतीय स्वतन्त्रता संग्राम में तिलका माँझी का बहुत ही योगदान रहा है। तिलका माँझी एवं उनके द्वारा निर्मित सेना छापामार लड़ाई में काफी महारत हासिल कर रखा था जो अग्रेजों से लड़ाई के दौरान काफी काम आई। तिलका माँझी ऐसे प्रथम व्यक्ति थे, जिन्होंने भारत को ग़ुलामी से मुक्त कराने के लिए अंग्रेज़ों के विरुद्ध सबसे पहले आवाज़ उठाई थी, जो 90 वर्ष बाद 1857 में स्वाधीनता संग्राम के रूप में पुनः फूट पड़ी थी। एक युद्द के दौरान तिलका माँझी को अंग्रेज़ी सेना ने घेर लिया एवं इस महान् विद्रोही देशभक्त को बन्दी बना लिया और उनपर अत्याचार एवं कार्यवाही की गई। 15 जुलाई सन 1785, भागलपुर में इस महान देश भक्त को एक वट वृक्ष में रस्से से बांधकर फ़ाँसी दे दी गई। क्रान्तिकारी तिलका माँझी की स्मृति में भागलपुर में कचहरी के निकट, उनकी एक मूर्ति स्थापित की गयी है। तिलका माँझी भारत माता के अमर सपूत के रूप में सदा याद किये जाते रहेंगे।

VEER SHAHEED TILKA MANJHA : MEMORABLE STATUE AT BHAGALPUR – BIHAR

WHY WE CELEBRATE CHRISTMAS: an OVERVIEW OF LEGENDary THINKERS with IMPORTANCEs and IMPACTS

Christmas the Feast of the Nativity is an annual festival commemorating the birth of Jesus Christ. It is celebrated religiously by a majority of Christians.  It is observed primarily on December 25th  as a religious and cultural celebration among billions of people around the world.  The celebratory customs associated in various countries with Christmas have a mix of pre-Christian, Christian, and secular themes and origins. Popular modern customs of the holiday include gift giving; completing an Advent calendar or Advent wreath, Christmas music and caroling.  The festival is viewing a Nativity play, an exchange of Christmas cards, church services, a special meal, and the display of various Christmas decorations, including Christmas trees, Christmas lights, nativity scenes, garlands, wreaths, mistletoe, and holly. In addition, several closely related and often interchangeable figures, known as Santa Claus, Father Christmas, Saint Nicholas, and Christ kind, are associated with bringing gifts to children during the Christmas season and have their own body of traditions and lore. Because gift-giving and many other aspects of the Christmas festival involve heightened economic activity, the holiday has become a significant event and a key sales period for retailers and businesses. The economic impact of Christmas has grown steadily over the past few centuries in many regions of the world. Here are some legendary views of renowned personalities of the world to focus on the importance of this festival.

Hunter Baker: As a fairly typical American child, I think I valued the guy in the red suit much more than I did the babe in the manger. In fact, I couldn’t put the two together! But since becoming a Christian at Florida State University about a quarter of a century ago, I have come to see the birth, death, and resurrection of Christ as the most important events in the history of the world.

Despite the significance of Christmas, those of us who have the easy freedom to observe the holiday are often too jaded to fully appreciate it. You may go along with someone to a service this year because you care about him or because it just seems that now is the time to do it.

If you go, do so with a new view about what is happening. Don’t go looking to be entertained by the music or stirred by the message. Those things may happen, but that is not the point. Go to worship God and to encourage others who want to worship him. Stand and kneel in solidarity with those who seek God’s blessing, his mercy, and his salvation. The church is about the children relating to the father, but it is also about the brothers and the sisters loving each other.

Lee Edwards: The most important thing about Christmas is that it invites us to reflect on the most important things in our life — our faith, our family, and our freedom. Our faith gives us hope, our family gives us love, and our freedom gives us the opportunity to practice our faith and to love each other — and of course the Holy Family.

Kristan Hawkins: Likely echoing many other Christians, I think I can say that Christmas has become less about Jesus and more about materialism, which is saddening. But as a wife and mother, I have the opportunity to present to my children the most important part of Christmas, which is the birth of our Saviour. As the leader of Students for Life, I find that it also has significant meaning for me as I teach my kids that Jesus started out as a little baby in the womb and that his life was recognized from the moment of conception. It’s a beautiful occasion to acknowledge the great love God has shown for all of us by giving us his own son in the unassuming form of a tiny little baby.

Kelly Monroe Kullberg: At Christmas we remember that God joins us on this curious blue planet full of angst and wonder. In Jesus Christ he shows his face. He reveals his heart of love. And he is forever for us in Christ, who is called “Immanuel” — God with us.

Sheila Liaugminas: The whole of the Social Gospel, the Golden Rule, all that is true, good, and beautiful was manifest in the Christ Child and spread in His life, teaching, and witness — spread “to all the world” through His followers — to change the world forever. He taught and showed that love is stronger than death, that evil can be vanquished, that humility, forgiveness, self-sacrifice, service to others, and unshakeable faith in God constitute a force more powerful than any other, and leads to the greatest freedom and ultimate peace and happiness.

DETAIL OF ADORATION OF THE SHEPHERDS BY GERARD VON HONTHORST (1622)

भारतीय संविधान के 10 रोचक बातें

हमारे देश भारत के संविधान को 26 नवंबर 1949 को स्वीकार किया गया था और संसद के अनुमोदन के बाद इसे 26 जनवरी 1950 को भारत सरकार अधिनियम (एक्ट) 1935 को हटाकर भारत का संविधान लागू किया गया। हमारा संविधान आज 70 साल का हो गया है, आइए आपको बताते हैं भारतीय संविधान से जुड़ी 10 खास बातें जो बेहद ही प्रमुख हैं।

1. संविधान सभा को इसे तैयार करने में दो साल, 11 महीने और 18 दिन का समय लगा। इसे तैयार करने के लिए एक संविधान सभा का निर्माण किया गया था। डॉ राजेंद्र प्रसाद को इसका स्थायी अध्यक्ष चुना गया था। इसकी बैठकों में प्रेस और जनता को भाग लेने की पूर्ण स्वतन्त्रता थी।

2. संविधान सभा के सदस्य भारत के राज्यों की सभाओं के निर्वाचित सदस्यों के द्वारा चुने गए थे। जवाहरलाल नेहरू, डॉ भीमराव अम्बेडकर, डॉ राजेन्द्र प्रसाद, सरदार वल्लभ भाई पटेल, मौलाना अबुल कलाम आजाद आदि इस सभा के प्रमुख सदस्य थे।

3. भारत का संविधान विश्व के किसी भी गणतांत्रिक देश के संविधान से लंबा लिखित संविधान है। संविधान सभा पर अनुमानित खर्च 1 करोड़ रुपये आया था।

4. देश के संविधान में ही कहा गया है कि भारत का कोई आधिकारिक धर्म नहीं होगा। जिस दिन संविधान को संसद में अपनाया जा रहा था उस दिन दिल्ली में मूसलाधार बारिश हो रही थी। सदन में बैठे सदस्यों ने इसे बहुत ही शुभ शगुन माना था। वैसे भी हिंदुस्तान में बारिश को शुभ संकेतों से ही देखा जाता है।

5. सबको समान अधिकार देने की बात की गई है। जिसके अनुसार भारत के नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनीतिक न्याय, पद, अवसर और कानूनों की समानता, विचार, भाषण, विश्वास, व्यवसाय, संघ निर्माण और कार्य की स्वतंत्रता, कानून तथा सार्वजनिक नैतिकता के अधीन प्राप्त होगी।

6. भारतीय संविधान के प्रथम प्रारूप का निर्माण एक भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी, अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के न्यायाधीश एवं भारतीय संविधान के सलाहकार सर बेनेगल नरसिम्हा राव अपने सहयोगी मित्र सच्चिदानंद सिन्हा के सहयोग से किया था। बाद में 13 संविधान सलाहकार समितियों एवं 07 सदस्य ड्राफ्ट समिति के प्रतिवेदन पर डॉ भीमराव अंबेडकर के अध्यक्षता में भारतीय संविधान 395 अनुछेद, 22 खण्ड एवं 12 सूचियों के साथ बनकर तैयार हुआ। इसमें मसौदा लिखने वाली समिति ने संविधान हिंदी, अंग्रेजी में हाथ से लिखकर कैलिग्राफ किया था और इसमें कोई टाइपिंग या प्रिंटिंग शामिल नहीं थी। भारतीय संविधान की वास्तविक प्रति प्रेम बिहारी नारायण रायजादा के हाथों से लिखी गई थी। इसके हर पन्ने को शांतिनिकेतन के कलाकारों से बखूबी सजाया और संवारा था।

7. हाथों से लिखे संविधान को 24 जनवरी 1950 को ही साइन किया गया था। इस पर 284 संसद सदस्यों ने हस्ताक्षर किया था। जिसमें सिर्फ 15 महिला सदस्य थीं। इसके बाद 26 जनवरी से ये संविधान पूरे देश में लागू हो गया। 

8. संविधान लागू होने के बाद से लेकर सितंबर 2016 तक सिर्फ 101 संशोधन हुआ है। ताजा संशोधन बिल जीएसटी बिल है। इतने कम संशोधन के कारण ही भारतीय संविधान को खास और अच्छा बताया जाता है।

9. संविधान की धारा 74 (1) में यह व्‍यवस्‍था की गई है कि राष्‍ट्रपति की सहायता को मंत्रिपरिषद् होगी जिसका प्रमुख पीएम होगा।

10. 26 जनवरी 1950 को संविधान को लागू किया गया और इसके साथ ही भारत ने अशोक चक्र को बतौर राष्ट्रीय चिह्न स्वीकार किया था।